कोरोना के बढ़ते खतरे के बीच संकट में फंसे ध्याडी मजदूर*

देवेंद्र सिंह राय

उत्तराखंड- कोरोना संक्रमण की रोकथाम हेतु सरकार के निर्देशानुसार लॉक डाउन के चलते गरीब मजदूर, फेरी वालों के सामने आर्थिक संकट पैदा हो गया है गरीबी क्या होती है और वह क्या-क्या करा सकती है इसका उदाहरण विकासनगर मे भी देखने को मिला। लॉक डाउन के चलते सबसे ज्यादा दिक्कत में वह तबका है जो मजदूरी करने के लिए अपना घर छोड़कर कई सौ किलोमीटर दूर दिहाड़ी मजदूरी करने गए थे जिनके काम बंद होने से कमाई का जरिया समाप्त हो गया ।घर जाने केभी साधन इनके पास नहीं है । बेचारे पैदल ही अपने-अपने शहरों की तरफ जा रहे हैं मीडिया ने जब इन से बात की तो पता चला की यह चिन्यालीसौड़, मंसूरी, बड़कोट पुरोला आदि स्थानों से आए हैं जो 25 तारीख सुबह से चले थे और 26 तारीख शाम विकास नगर पहुंचे जो लगभग 43 लोग हैं जिनमें 13 मजदूर जम्मू-कश्मीर के है मजदूरों से पता चला कि कई लोगों ने कल से खाना भी नहीं खाया है विकासनगर के बाजार चौकी प्रभारी सनोज कुमार से इस बाबत पूछा तो उन्होंने बताया कि उच्च अधिकारियों को इसकी जानकारी दी गई है और जल्द ही उचित व्यवस्था की जाए।

Back to top button