देश के खाकी वर्दी के जवानों और डॉक्टरों की प्रशंसा में दो शब्द

बांकेलाल निषाद

हिंदुस्तान -के कोरोना महामारी से जुझते देश व समाज के मसीहा के रूप में देवतुल्य पुलिस कर्मियों एवं सेकंड भगवान के रूप में अवतरित डॉक्टरों, देवी तुल्य महिला पुलिसकर्मियों को कोरोना के इस महासमर की आग में आपकी समर्पित सेवा को देखते हुए मेरी तरफ से ढेर सारी शुभकामनाएं, हार्दिक अभिनंदन एवं वंदन। आप के देश के हर नागरिकों के जान बचाने हेतु समर्पण एवं सेवा को देखते हुए आपकी प्रशंसा में परमात्मा से आशीर्वाद दिलाने के अलावा मेरे पास शब्द कम पड़ रहे हे। देश के जवानों आपकी मेहनत और लगन अप्रतिम योगदान बहुत ही शीघ्र भारत को विश्व पटल की महा शक्तियों में सर्वोच्च स्थान दिलाने में आपका नाम स्वर्णिम अक्षरों में लिखा जाएगा। हे देश के शूरवीरो कोरोना से जूझते जब आप के ऊपर कोई पत्थर फेंकता है ,जब कोई आपको पत्थर मारता है , थूकता है , आपसे अश्लील हरकतें करता है तो इस दृश्य से सोशल मीडिया पर देखकर हमारे आंखों में आंसू आ जाते हैं और हृदय ग्लानि से भर जाता है। देश के सेकंड भगवान के रूप में अवतरित डॉक्टरों कोरोना जैसे यमराज से लड़ने में जो आपको परेशानियां हो रही हैं इतनी परेशानियों के झूझने के बावजूद आप अपने कर्तव्य के निर्वहन में शत प्रतिशत खरे उतर रहे हैं इसके लिए आपको हृदय की गहराइयों से शत शत नमन, साधुवाद, धन्यवाद । परमपिता परमेश्वर से हमारी यही कामना है आपको इसका पारिश्रमिक पारितोषिक बेशकीमती हो। संसार एक ना एक दिन भारत को आप ही के सेवा और समर्पण की वजह से जानेगा। जब हम यह देखते हैं कि इलाज करते वक्त जहां पूरे देश में आपकी पूजा होना चाहिए वहां आपके साथ अश्लील हरकतें की जाती है ,आप पर पत्थर फेंके जाते हैं आप पर थूका जाता है तो यहां मानवता, इंसानियत और देश की आजादी शर्मसार हो जाती है। इन सब के बावजूद भी आप इन अबोध ,अज्ञान और अनजान लोगों की गांधीगिरी से सेवा करते हैं, तो हमें ऐसा आभास होता है मानो हमारे देश के आजाद करने वाले बलिदानियों, गांधी ,सुभाष चंद्र बोस ,आजाद ,भगत सिंह अशफाक उल्ला खान जैसे लाखों बलिदानियों की थाती को बचा रहे और संजो रहे हैं । लाखों बलिदानियों की सही कीमत को आप ही पहचान रहे हैं। इन बलदानियों को ,देशभक्तों को यह लग रहा होगा कि हमारा बलिदान व्यर्थ नहीं गया है ।खाकी वर्दी के जवानों, देश के डॉक्टरों आज आप देश के उन वीर सपूतों बलिदानी जवानों और किसानों, वैज्ञानिकों की श्रेणी में आपका नाम शुमार हो रहा है । आपका यह कृत्य एक ना एक दिन जल्द ही विश्व में भारत को एक अलग पहचान देगा और यह पहचान मात्र आप दोनों की वजह से भारत पूरे विश्व में पूजा जाएगा ।आज देश जहां आप पर अंगुलिया उठाता था आज आपके सामने कर बद्ध निवेदित है ।वर्तमान में जो पहचान भारत की कोरोना महामारी से लड़ने में विश्व में प्रथम स्थान है वह आप ही दोनों के कारण है । काश आप ही की तरह देश का हर नागरिक और विभाग समर्पित होकर कोरोना महामारी से लड़ने में हमारा साथ दें तो जल्द से जल्द हमारी पहचान विश्व में कोरोना खत्म करने में भारत का नाम अग्रदूत के रूप में हो जाय । जय हिंद जय भारत

Back to top button