खारजा नदी में नहाते समय डूब कर दो छात्रों की मौत अपने लाडलो की मौत की खबर मिलते ही माता पिता हुए गुमशुम अपने बच्चों की मौत को याद कर फफक पड़े परिजन

अखिलेश श्रीवास्तव ए अहमद सौदागर

लखनऊ-चिनहट थाना क्षेत्र स्थित काशीराम कॉलोनी निवासी अच्छे कुमार और राजू रावत अपने अपने परिवार के साथ रोज की तरह मंगलवार को भी हंसी खुशी का दिन गुजार रहे थे कि अचानक दोपहर बाद दोनों घर मातम में तब्दील हो गया।
राजू रावत के 12 वर्षीय मोहित और अच्छे कुमार के 10 वर्षीय विशनु एक निजी स्कूल में कक्षा छह के छात्र थे।
दोनों किशोर अपने अन्य साथियों के साथ कालोनी के पास स्थित खारजा नदी में नहाने गए, लेकिन उन्हें शायद यह पता नहीं था कि अब वे कभी अपने घरों की दहलीज पर नहीं पहुंच पाएंगे।
यही हुआ नहाते समय दोनों गहराई में चले गए और उनकी डूबकर मौत हो गई।
एक साथ दो किशोरों की हुई मौत से परिवार में तो दूर पूरे इलाके में हड़कंप मच गया।
सूचना पाकर मौके पर इंस्पेक्टर चिनहट क्षीतिज कुमार त्रिपाठी और जलसेतु चौकी प्रभारी मनीष वर्मा दल-बल के साथ पहुंचे और गोताखोरों की मदद से दोनों बच्चों की तलाश शुरू की।
करीब एक घंटे की मशक्कत के बाद जब गोताखोरों ने एक एक करके दोनों के शव नदी से बाहर निकला तो मानो दोनों परिवारों में कोहराम मच गया।
पुलिस ने मृतकों के परिजनों को किसी तरह समझा-बुझाकर कर शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजा।
,दो पुलिसकर्मियों ने पेश की मिसाल,
विशनू और मोहित की लाश गोताखोरों ने बाहर निकला तो शरीर पर एक भी कपड़ा नहीं था।
यह देख चिनहट कोतवाली में तैनात हेड कांस्टेबल देवमणि यादव व मुकीम अहमद ने अपने साथ रखें गमछा को दोनों की शरीर को ढक कर मानों एक मानवता पेश कर पुलिस महकमे का मनोबल बढ़ाने के साथ जनता में एक अच्छा संदेश दिया।
वहीं मोहित और विशनू के माता-पिता का रो-रोकर बुरा हाल है।
अपने लाडले की तस्वीर और उनकी चहलकदमी याद कर रहरहकर बिलख पड़ते हैं।
उनकी विलाप देख आसपास के लोग उन्हें सांत्वना देने में जुटे रहे।

Back to top button