प्रशासन की लापरवाही से कोरोना की भेंट चढ़ रहा एटा

अहिबरन सिंह

मुंबई से स्पेशल ट्रेन से पालघर से एटा आये तीन श्रमिक सहित चार मिले पॉजिटिव

एटा -देश में कोरोना के बढ़ते कहर के बाद कोरोना ने एटा जनपद में पांव पसारने प्रारंभ कर दिए हैं
बीते दिनों स्पेशल श्रमिक ट्रेन से महाराष्ट्र के पालघर से आए 3 लोगों की 27 मई को आई कोरोना जांच रिपोर्ट में पॉजिटिव पाए गए हैं।जबकि यह लोग महाराष्ट्र से एटा आने के बाद सभी 186 लोगों को प्रशासन ने 14 दिन के लिए क्वॉरेंटाइन किया गया था।उसके बाद इन लोगों को इनके घर बिना जांच रिपोर्ट आए ही वापस भेज दिया गया। जो प्रशासन की कार्यशैली पर सवालिया निशान लगाती है साथ ही अगर यह लोग पहले नेगेटिव थे तो अब पॉजिटिव कैसे हो गए।यह जांच का विषय है 36 लोगों की रिपोर्ट में 3 कोरोना पोजिटिव बीते दिन दिल्ली से कोरोना पाॅजिटिव मिलने पर भागे वृद्ध के पाॅजिटिव मिलने के 16 घंटे बाद तीन के कोरोना पाॅजिटिव पाये जाने पर प्रशासन हरकत में आ गया है।पाॅजिटिव पाये गये तीनों मुंबई में मजदूरी करते थे तथा एटा के थाना कोतवाली देहात के ग्राम जिरसमी के मूल निवासी हैं मुख्य चिकित्सा अधिकारी अजय अग्रवाल ने बताया कि आज प्राप्त हुई 36 जांच रिपोर्टों में तीन की कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट प्राप्त हुई है जिनमें एटा तहसील सदर के ब्लॉक शीतलपुर के ग्राम जिरसमी निवासी 25 वर्षीय गीता देवी 11 वर्षीय मनीषा 9 वर्षीय मनदीप की रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई है।
रिपोर्ट प्राप्त होने के बाद तीनों को एटा के सेंट मैरी स्कूल आगरा रोड पर क्वॉरेंटाइन किया गया है परिजनों को भी किया काॅरन्टाईन उप जिलाधिकारी सदर अबुल कलाम ने बताया एटा के ग्राम भगीपुर में संदिग्ध कोरोना पाॅजिटिव मिलने पर उसे सैफई में उपचार के लिए भेजे जाने के बाद उसके 8 परिजनों को कॉरनटाइन किया गया है पूर्व में बीते दिन 16 लोगों को काॅरन्टाईन किया गया था।
प्रशासन ने मुख्यालय के ग्राम भगीपुर सहित मोहल्ला प्रेम नगर अवंती बाई नगर क्षेत्र के 250 मीटर एरिया को सील कर दिया गया है।स्वास्थ्य विभाग में उक्त सील किए गए एरिया में 2 डॉक्टर 1 एएनएम एकआशा बी पी एल टीम सहित नौ टीमें भेजी हैं।जो क्षेत्र में लोगों की जांच कर रही है एटा मे और तीन कोरोना पोजिटिव, 24 घंटे में संख्या पहुंची 7 कोरोना से है बड़ा खतरा किंतु प्रशासन ग्राम जिरसमी में काफी दिनों से रह रहे मुंबई के पालघर से आए लोगों के परिजनों से मिलने जुलने वालों के प्रति उदासीनता बरत रहा है।
उन्होंने अभी तक गांव के कोरोना संक्रमितों के मिले एरिया को ना तो शील ही किया है और न ही वहां के लोगों की जांच करने की तैयारी की है अगर इन लोगों के संपर्क में आए लोगों की कोरोना जांच नहीं की गई तो यह कोरोना की बीमारी महामारी का रूप धारण कर सकती है आप सभी से संयुक्त सम्बाद का निवेदन है की घर पर रह कर lockdawn का पालन करें मास्क पहने व बार बार अपने हाथ धोते रहे

Back to top button