एडीजी की कुर्सी की गरिमा लौटाएंगे कोविड 19 में पुलिस ने निभाया जिम्मेदारी अपनी जान जोखिम में डालकर पुलिसकर्मी कर रहे ड्यूटी

अपराधी होंगे सलाखों के पीछे, एडीजी

ए अहमद सौदागर

लखनऊ-ने एडीजी कानून-व्यवस्था प्रशांत कुमार ने कहा कि कोविड 19 यानी कोरोनावायरस महामारी के दौरान पुलिसकर्मी अपनी जान जोखिम में डालकर दूसरों की जान बचाने के लिए पूरी लगन और मेहनत से काम कर रहे हैं, लिहाजा पुलिस विभाग ही नहीं बल्कि हर शख्स सराहना कर रहा है।
गुरुवार को पुलिस मुख्यालय में कार्यभार ग्रहण करने के दौरान पत्रकारों से मुखातिब होते हुए कहा कि शासन ने उनपर भरोसा कर एडीजी कानून-व्यवस्था की कुर्सी सौंपी है।
प्रशांत कुमार ने कहा कि वह एडीजी कानून-व्यवस्था की कुर्सी व दफ्तर की गरिमा लौटाएंगे।
अपराध नियंत्रण और सांप्रदायिक सद्भाव उनकी पहली प्राथमिकता होगी। यह भी कहा कि लोग-बाग लॉक डाउन के नियम का पालन तथा पुलिस प्रशासन का सहयोग करेंगे तो जल्द ही महामारी पर काबू पा लिया जायेगा।
गुरुवार को कार्यभार संभालने के बाद प्रशांत कुमार ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि राजधानी लखनऊ सहित आसपास के जिलों की क्या स्थिति है और क्या कार्रवाई हुई इसकी समीक्षा होगी।
सबसे बड़ी चुनौती कोरोनावायरस जैसी फैली महामारी इसे काबू पाने के लिए मेहनत और लगन के साथ लोग-बाग एक दूसरे से दुरियां बनाएं रखें इसके लिए अपील की जाएगी, ताकि जल्द ही इस महा बीमारी से निजात मिल सके।
यही नहीं उन्होंने ने कहा कि अपराध और अपराधियों पर अंकुश लगाने तथा धरपकड़ के लिए अहम अभियान चलाया जाएगा।
नए एडीजी कानून-व्यवस्था ने लॉकडाउन के दौरान पुलिस अपनी जान जोखिम में डालकर ड्युटी द़े रहें हैं उनका मनोबल और बढ़ाने की कोशिश करेंगे।
एडीजी कानून-व्यवस्था बनने के बाद आईपीएस प्रशांत कुमार ने डकैत, माफिया और गुंडों से खुली जंग का ऐलान किया है।
उन्होंने ने कहा कि समाज में सिर्फ अच्छे बुरे लोग हैं और इनमें अधिकतर लोग अच्छे हैं और बाकी गुंडे, माफिया व डकैत। हम ऐसे लोगों को कतई बख्शेंगे।
एडीजी का कहना है कि हर छोटी बड़ी घटनाओं पर अंकुश लगाने के लिए भरसक प्रयास किया जायेगा।

Back to top button