बैंक की यह हालत है गरीब भूख मर रहे बैंक चक काट रहे

रमेश दीक्षित रिपोर्टर

सीतापुर -आर्या बैंक ग्रामीण ब्लॉक सकरन सांडा सकरन बैंक की हालत यह है गरीब जनता मारी मारी घूम रही है बैंक के पास लायन लगी हुई है अपना पैसा नहीं पा रही करोना वायरस महामारी बीमारी से जनता भूखा मर रही कोई अधिकारी सुनने वाला नहीं है आर्यावर्त बैंक दलाली चल रही है जो पैसा देता है उसी का काम होता है सकरन बैंक अधिकारी सुनता नहीं है उधर पुलिस की लाठियां खाना पढ़ रहा है घर में बच्चे आंखों से मर रहे हैं कोई सुनने वाला नहीं है योगीनाथ सरकार में बैंकों की या हालत है अपना पैसा मिल नहीं रहा मनीजर के पास दौड़ कर जनता जाती है मैनेजर जनता को भगा देता बाहर गरीब जनता निकलती है पुलिस लाठियां खाती है इससे अच्छा हमें कोरोना वायरस बीमारी से मर जाएं अच्छा रहेगा घर में जाते हैं बच्चे हमारी आंखों से मर रहे हम गरीब सरकार से गुहार लगाएगा हमें भूख से मरने से बचा लीजिए पुलिस की लाठियां खाती है परेशान हो गए हैं हमें आत्म हत्या कर लेना है जो हमें पैसा बैंक से नहीं दिया गया बच्चे हमारे आंखों से मर रहे हैं आर्यावर्त बैंक की यह हालत वहां पर दलाली चल रही है जो पैसा घोष देता है उसका पैसा निकलता है योगीनाथ सरकार में अधिकारियों का बोलबाला है सकरन की जनता आंखों से मर रही है बैंक वालों की यह हालत है जो नरेगा का पैसा छुड़ाने प्रधान आता है उसको तोरत दीया जाता है उस पर परसेंट तय कर लेते हैं पा जाते हैं इसलिए गरीब जनता कितनी लायन लगाए हुए हैं धूप में मर रही है कोई सुनने वाला नहीं है सकरन थाने वह की हालत यह है तहसील लहरपुर जिला सीतापुर ब्लॉक सकरन सांडा की बैंक की यह हालत

Back to top button