वैश्विक महामारी कोरोना के चलते को कोरोंन्टाइन सेंटर में भूख से बिलख रहे बच्चे, प्रशासन बना मूकदर्शक

उत्तर प्रदेश के एटा- में भूख से तड़प रहे बच्चो को देखकर नही पसीज रहा जिला प्रशासन दिल उत्तर प्रदेश:एटा एटा कोरोना महामारी को लेकर मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री कोरोंन्टाइन किये गए मरीजो को सही से खाने पीने की शुचारू रूप से व्यवस्था के निर्देष दे रहे है बाबजूद इसके एटा जिले में कुछ और ही हो रहा है एटा के जिलाधिकारी सुखलाल भारती पर नही समहल रहा है जिला,जिले में लगातार कोरोना जैसी महामारी के मरीज बढ़ते जा रहे है वही जिलाधिकारी सुखलाल भारती जिले को सम्हालने में नाकाम नजर आ रहा है,कोरोंन्टाइन सेंटर में किये गए मरीजों को बीमारी से मुक्त करने को रखा गया है लेकिन यहाँ भूख से और मच्छरों से नई बीमारियां दी जा रही है दरसल सेंट मैरी कोरोंन्टाइन सेंटर में इंसानियत को शर्मसार कर देने वाली तस्वीर तेजी से वायरल हो रही है जिसमे बच्चे भूख से बिलखते नजर आए सेंटर में मरीजों की बद से बदतर हालत हो रही है और कोरोंन्टाइन किये गए लोगों को प्रशाशन की सजा मिल रही है,डॉक्टर अपनी मनमानी कर रहे हैं आपको बता दें सेंट मैरी कोरोंन्टाइन सेंटर में मरीज नर्क की जिंदगी जी रहे है खाने के लिए जली हुई रोटी और सूखी रोटी और पानी जैसी दाल दी जा रही है बहीं छोटे बच्चों के लिए दूध में आधा पानी मिलाकर पिलाया जा रहा है लेट्रिन बाथरूम की हालत बहुत बुरी हो गयी लगातार खबरें दिनखाने के बाद भी एटा के जिलाधिकारी सुखलाल भारती सो रहे है गहरी नींद आखिर कब खुलेगी जिलाधिकारी सुखलाल भारती की आंखे बही कोरोंन्टाइन सेंटर में रहने बाले लोगों का आरोप है कि लेटने के लिए कोई भी गद्दे चादर का भी इंतजाम नहीं है जैसा कि कोरोना महामारी में डॉक्टर और पुलिस प्रशासन को कोरोना योद्धा माना जा रहा है लेकिन एक तस्वीर सेंट मैरी कोरोंन्टाइन सेंटर की सामने आई जहां इंसानियत को शर्मसार कर देने वाली तस्वीर तेजी से वायरल हो रही है जहां डॉक्टर व प्रशासनिक अधिकारी मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री के निर्देशों को ठेंगा दिखा रहे है और अपनी मनमानी कर रहे है कोरोंन्टाइन सेंटर में बच्चे भूख से विलख रहे है उन्हें पीने के लिए दूध की जगह पानी दिया जा रहा है और पैसा सरकार द्वारा दूध का लिया जा रहा है ऐसे में जिलाधिकारी सुखलाल भारती ने अभी तक लगातार खबरों के बाद भी कोई भी निर्देश किसी भी अधिकारी और कर्मचारी को देने में असमर्थ है बहीं छोटे बच्चे भूख से तड़पते देख बच्चों की मां ने रोकर अपनी परेशानियों को मुख्यमंत्री तक पहुचने की बात कही।जिसमे तीन दिन से भूखे बच्चे को लेकर महिला परेशान नजर आ रही है और जिलाधिकारी ऐसे कर्मचारियों पर कार्यबाही करने में संकोच कर रहे है सबाल इस बात का है कि कोरोंन्टाइन सेंटर में बाहर से खाने पीने की चीजें नही दी जाती है और अंदर भी भर पेट भोजन मिल नही रहा है फिर इसे में कोरोंन्टाइन किये गए लोग क्या करे भूखे मर या वीमारियों को लेकर जाए भूखे प्यासे विलख रहे बच्चो का रोते हुए वीडियो हुआ शोशल मीडिया पर वायरल
एटा कोरोना महामारी को लेकर मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री कोरोंन्टाइन किये गए मरीजो को सही से खाने पीने की शुचारू रूप से व्यवस्था के निर्देष दे रहे है बाबजूद इसके एटा जिले में कुछ और ही हो रहा है एटा के जिलाधिकारी सुखलाल भारती पर नही समहल रहा है जिला,जिले में लगातार कोरोना जैसी महामारी के मरीज बढ़ते जा रहे है वही जिलाधिकारी सुखलाल भारती जिले को सम्हालने में नाकाम नजर आ रहाहै,कोरोंन्टाइन सेंटर में किये गए मरीजों को बीमारी से मुक्त करने को रखा गया है लेकिन यहाँ भूख से और मच्छरों से नई बीमारियां दी जा रही है दरसल सेंट मैरी कोरोंन्टाइन सेंटर में इंसानियत को शर्मसार कर देने वाली तस्वीर तेजी से वायरल हो रही है जिसमे बच्चे भूख से बिलखते नजर आए सेंटर में मरीजों की बद से बदतर हालत हो रही है और कोरोंन्टाइन किये गए लोगों को प्रशाशन की सजा मिल रही है,डॉक्टर अपनी मनमानी कर रहे हैं आपको बता दें सेंट मैरी कोरोंन्टाइन सेंटर में मरीज नर्क की जिंदगी जी रहे है खाने के लिए जली हुई रोटी और सूखी रोटी और पानी जैसी दाल दी जा रही है बहीं छोटे बच्चों के लिए दूध में आधा पानी मिलाकर पिलाया जा रहा है लेट्रिन बाथरूम की हालत बहुत बुरी हो गयी लगातार खबरें दिनखाने के बाद भी एटा के जिलाधिकारी सुखलाल भारती सो रहे है गहरी नींद आखिर कब खुलेगी जिलाधिकारी सुखलाल भारती की आंखे बही कोरोंन्टाइन सेंटर में रहने बाले लोगों का आरोप है कि लेटने के लिए कोई भी गद्दे चादर का भी इंतजाम नहीं है जैसा कि कोरोना महामारी में डॉक्टर और पुलिस प्रशासन को कोरोना योद्धा माना जा रहा है लेकिन एक तस्वीर सेंट मैरी कोरोंन्टाइन सेंटर की सामने आई जहां इंसानियत को शर्मसार कर देने वाली तस्वीर तेजी से वायरल हो रही है जहां डॉक्टर व प्रशासनिक अधिकारी मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री के निर्देशों को ठेंगा दिखा रहे है और अपनी मनमानी कर रहे है कोरोंन्टाइन सेंटर में बच्चे भूख से विलख रहे है उन्हें पीने के लिए दूध की जगह पानी दिया जा रहा है और पैसा सरकार द्वारा दूध का लिया जा रहा है ऐसे में जिलाधिकारी सुखलाल भारती ने अभी तक लगातार खबरों के बाद भी कोई भी निर्देश किसी भी अधिकारी और कर्मचारी को देने में असमर्थ है बहीं छोटे बच्चे भूख से तड़पते देख बच्चों की मां ने रोकर अपनी परेशानियों को मुख्यमंत्री तक पहुचने की बात कही।जिसमे तीन दिन से भूखे बच्चे को लेकर महिला परेशान नजर आ रही है और जिलाधिकारी ऐसे कर्मचारियों पर कार्यबाही करने में संकोच कर रहे है सबाल इस बात का है कि कोरोंन्टाइन सेंटर में बाहर से खाने पीने की चीजें नही दी जाती है और अंदर भी भर पेट भोजन मिल नही रहा है फिर इसे में कोरोंन्टाइन किये गए लोग क्या करे भूखे मर या वीमारियों को लेकर जाए।।

*ब्यूरो अहिबरन सिंह एटा*

Back to top button