जिलाधिकारी श्री अखिलेश तिवारी की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में मुख्यमंत्री युवा उद्यमिता विकास अभियान के क्रियान्वयन हेतु जिला स्तरीय सी0एम0 युवा क्रियान्वयन व अनुश्रवण समिति की बैठक सम्पन्न हुयी।

रिपोर्टर विजेंद्र यादव

सीतापुर- बैठक के दौरान जिलाधिकारी ने कहा कि समिति के सभी सदस्यों का उत्तरदायित्व है कि वह अपने विभाग से संचालित योजनाओं का इस समिति के माध्यम से व्यापक प्रचार-प्रसार करें तथा अधिक से अधिक लोगों को लाभान्वित करायें। जिलाधिकारी ने कहा कि अनेक प्रवासी विभिन्न विधाओं में बेहतरीन कौशल रखते हैं जिन्हें चिन्हित करते हुये उनके कौशल का उपयोग जनपद में संचालित उद्योगों के विकास में लिया जा सकता है।

जिलाधिकारी ने कहा कि वर्तमान में प्रदेश के विभिन्न विभागों में युवा रोजगार उद्यमिता की अनेक योजनाएं संचालित है। साथ ही भारत सरकार से प्रायोजित योजनायें यथा ‘मुद्रा‘ भी युवा उद्यमियों को स्वावलंबन की ओर बढ़ाने के उद्देश्य से संचालित हो रही हैं। उक्त सभी योजनाओं के अन्तर्गत ब्याज मुक्त ऋण, कोलेटरल फ्री कैपिटल सब्सिडी आदि वित्तीय सहायता उपलब्ध कराई जा रही है, जिनमें कौशल-आधारित प्लेसमेंट के साथ-साथ उद्यम आधारित स्वावलम्बन तक युवाओं को पहुंचाने के अनेक अवसर उपलब्ध हैं। इन योजनाओं के उद्देश्यों की प्राप्ति को और अधिक गतिमान करने के लिए मुख्यमंत्री युवा उद्यमिता विकास अभियान क्रियान्वित किया जा रहा है। वर्तमान में विभिन्न विभागों द्वारा संचालित योजनाएं अलग-अलग रूप से साइलोस में संचालित हैं व उनकी प्रक्रियाएं भी भिन्न-भिन्न हैं। उनके बीच आपसी सूचनाओं में एक रूपता भी नहीं है। इन सब का निराकरण करके एक सरल प्रक्रिया अपना कर युवा उद्यमियों को प्रोत्साहित करके सभी उद्यमों की सेवाओं को एक पटल पर उपलब्ध करवाना इस अभियान का लक्ष्य होगा। यह अभियान कन्वर्जेन्स बेस्ड इम्पलीमेंटशन मॉडल को अपनाते हुए उपलब्ध वित्तीय व भौतिक संसाधनों के सर्वोत्तम उपयोग की अवधारणा पर आधारित है। इस अभियान के माध्यम से जनपद के कुशल युवाओं को आजीविका उपार्जन के लिए प्राप्त अवसरों का बेहतर उपयोग करवाकर उन्हें रोजगार से स्वावलम्बन तक पहुँचाया जा सकेगा। इस अभियान का समग्र रूप में क्रियान्वयन युवा हब के माध्यम से किया जायेगा। राज्य के प्रत्येक जिले में ‘‘युवा हब‘‘ स्थापित कर, जिला स्तर पर उपलब्ध उद्यम के अवसरों को चिन्हित करके उन्हें स्थापित कराने के साथ ही साथ एक वर्ष तक उन्हें गतिमान करने में हब द्वारा हैंड होल्डिंग सहयोग युवा उद्यमियों को प्रदान किया जायेगा। विभिन्न मान्यता प्राप्त तकनीकी एवं व्यावसायिक प्रशिक्षण संस्थानों के माध्यम से कौशल प्रशिक्षण प्राप्त ऐसे युवाओं, जो स्व-उद्यम स्थापित करने के इच्छुक हों, में उद्यमिता (इन्टर प्रिन्योरशिप) को विकसित करना, उन्हें इज ऑफ डूइंग बिजनेस की अवधारणा से जोड़ते हुए विभिन्न रोजगारपरक योजनाओं का लाभ उठाने में सहायक सभी सेवाओं को उन तक पहुँचाना इस हब के माध्यम से सुगमतापूर्वक संभव हो सकेगा।

जिलाधिकारी ने संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिये कि स्थानीय उद्योगों के उद्यम अवसरों को चिन्हित कर उसके अनुरूप विभिन्न विभागों से मांग तैयार की जाये तथा इसके अनुरूप प्रशिक्षण कराया जाये। साथ ही स्थानीय उद्योगों के बैकवर्ड व फारवर्ड लिंकेज को चिन्हित कर जिला व मण्डल स्तर के उद्यमियों को पोर्टल के माध्यम से अध्यावधिक सूचना उपलब्ध करायी जाये। उन्होंने युवाओं को अधिक से अधिक जागरूक करने तथा अभियान का निरन्तर अनुश्रवण व मूल्यांकन करने के भी निर्देश दिये।

*प्रवासियों को रोजगार उपलब्ध कराने हेतु दिये दिशा-निर्देश*

जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि बाहर से आने वाले प्रवासियों का विवरण सूचीबद्ध करते हुये उन्हें सेवायोजित किया जाये या रोजगार उपलब्ध कराया जाये। उन्होंने कहा कि जनपद में जो कार्यदायी संस्थाएं कार्य कर रही हैं वह प्राथमिकता के आधार पर योग्यता के अनुसार प्रवासियों को कार्य दें। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा संचालित योजनाओं से प्रवासियों को अधिक से अधिक लाभान्वित किया जाये। जिलाधिकारी ने मनरेगा योजना के अन्तर्गत प्रवासियों द्वारा किये जा रहे कार्यों की सराहना भी की।

*कौशल विकास मिशन के छात्रों द्वारा बनाये गये मास्क जिलाधिकारी को सौंपे*

बैठक के दौरान प्रधानाचार्य राजकीय आई0टी0आई0 योगेश कुमार एवं जिला प्रबन्धक कौशल विकास मिशन चन्द्र प्रकाश अवस्थी ने कौशल विकास मिशन के अन्तर्गत प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे छात्रों द्वारा बनाये गये दो हजार मास्क जनसामान्य में वितरण किये जाने हेतु जिलाधिकारी को सौंपे।

बैठक के दौरान मुख्य विकास अधिकारी संदीप कुमार, परियोजना निदेशक डी0आर0डी0ए0 ए0के0 सिंह, प्रधानाचार्य आई0टी0आई0 योगेश कुमार, उपायुक्त उद्योग आशीष गुप्ता सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।

Back to top button