जिलाधिकारी अखिलेश तिवारी की अध्यक्षता में शिविर कार्यालय में सोमवार की शाम जिला आपदा प्रबंध समिति की बैठक सम्पन्न हुयी।

रिपोर्टर रमेश दीक्षित

सीतापुर -बैठक के दौरान जिलाधिकारी ने कोरोना वायरस कोविड-19 के प्रसार को रोकने के दृष्टिगत विभिन्न विभागों द्वारा की गयी कार्यवाही की समीक्षा की तथा सरकार द्वारा उपलब्ध करायी जा रही सुविधाओं से जनता को लाभान्वित किये जाने की स्थिति की भी समीक्षा की।

बैठक के दौरान जिलाधिकारी ने कड़े निर्देश दिये कि 8 जून से प्रभावी दिशा निर्देशों के अन्तर्गत सभी धार्मिक स्थलों, दुकानों, शापिंग माल, रेस्टोरेंट, होटल आदि में कोरोना वायरस कोविड-19 से बचाव के उपायांे को प्रभावी रूप से लागू किया जाये। उन्होंने कहा कि जिन वस्तुओं के विक्रय की अनुमति अभी नही है, उनसे संबंधित दुकानें कदापि न खोली जायें और न ही उनका विक्रय किया जाये। नियमों का उल्लघंन करने वालों के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही किये जाने के निर्देश भी जिलाधिकारी ने दिये। उन्होंने कहा कि महामारी अधिनियम अभी भी प्रभावी है तथा लाॅकडाउन 5 एवं धारा 144 भी लागू है, अतः इनका उल्लघंन करने वालों के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही अमल में लायी जायेगी।

जिलाधिकारी ने आम जनता से भी जागरूक रहने की अपील करते हुये कहा कि बीमारी का खतरा अभी कम नही हुआ है, इसलिये सभी को सावधान रहना है। सभी लोग मास्क का प्रयोग अवश्य करें। 65 वर्ष से अधिक उम्र के व्यक्ति, 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चे, गम्भीर बीमारियों से ग्रसित व्यक्ति एवं गर्भवती महिलाएं अनावश्यक रूप से बाहर न निकलें। हाथों को साबुन पानी से धोते रहें या सेनीटाइजर का प्रयोग करें।

बैठक के दौरान जिलाधिकारी ने पूर्ति विभाग, चिकित्सा विभाग, खाद्य सुरक्षा विभाग एवं पुलिस विभाग द्वारा किये गये कार्यों की समीक्षा भी की। मनरेगा के अन्तर्गत अधिक से अधिक मानव दिवस सृजित करते हुये लाभान्वित किये जाने को कहा। कल्याणी नदी को पुनर्जीवित किये जाने हेतु कार्ययोजना प्रस्तुत करने के निर्देश उपायुक्त मनरेगा को दिये।

बैठक के दौरान पुलिस उपमहानिरीक्षक/पुलिस अधीक्षक एल0आर0 कुमार, मुख्य विकास अधिकारी संदीप कुमार, मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 आलोक वर्मा सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।

Back to top button