कप्तान साहब! पूर्व प्रधान हत्या के शूटरों को मारने वाले किस पार्टी के कार्यकर्ता थे कहीं ये भी तो भीम आर्मी नहीं ?

अजय कुमार तिवारी

अम्बेडकर नगर /राधिका गैग रेप कांड के वहसी दरिन्दों को पुलिस द्वारा बचाने के कुकर्म को देख जनता के बगावती तेवर अभी ठंडे ही नहीं हुये थे कि तब तक इब्राहीमपुर थाने में दिन दहाडे ताबड़तोड़ गोलियां चलाकर शूटरो ने पूर्व प्रधान की हत्या कर भागने की कोशिश की लेकिन जनता के बगावती तेवर के आगे शूटर भागने मे नाकाम रहे। जनता ने मौके पर दो शूटरो को मार डाला अब पुलिस प्रशासन द्वारा जनता की इस भीड़ को जिसनें अपनी जान की परवाह किये बगैर शूटरो को पकड़ा और मारा अब इस भीड़ को किस पार्टी का नाम मिलना चाहिए कहीं ये भी भीम आर्मी को लोग तो नहीं थे?पुलिसिया लापरवाही और भ्रष्टाचार की वजह से आज पूरा अम्बेडकर नगर हत्यारो और गैंग रेपिस्टो का अड्डा बन गया है ।आये दिन कोई न कोई घटना सुनाई दे ही जाती है ।आज पुलिस प्रशासन ईमानदारी से अपना काम करता तो अपराधियों और रेपिस्टो मे भय का माहौल बनता लेकिन थाना और तहसील न्याय के मंदिर की जगह व्यापार का अड्डा बन चुका है । यहाँ न्याय की खरीद फरोख्त रोज हो रही है और इसी खरीद फरोख्त की वजह से जनता के बगावती तेवर रोड पर दिखाई दे रहे है और जनता को साफ लग रहा है कि पुलिस प्रशासन से न्याय मिलना मुश्किल है। अतः जनता खुद न्याय करने पर अमादा है। राधिका गैंग रेप कांड के दोषियों को सलाखों के पीछे भेजने की जगह ‘बचाने का प्रयास करना ‘गैंगरेप को रेप मे बदलना यह दर्शाता है कि अम्बेडकर नगर पुलिस कुछ भी कर सकती है । पुलिस को उस बच्ची पर जरा सा भी तरस नहीं आया जिसकी मासूमियत को आठ दरिन्दों ने कुचल कर फेंक दिया ऐसे दरिन्दों को बचाने की वजह से ही अम्बेडकर नगर मे अपराध का ग्राफ बढ रहा है ।और उस बच्ची की मासूमियत कुचलने की वजह से भावनात्मक रूप से न्याय माँगने आयी भीड को आप ने भीम आर्मी का नाम दे दिया । उसी तरह दो से तीन जनपदों से आये सूटरो ने दिनदहाडे ग्रामप्रधान की ह्त्या कर दी और आप की पुलिस तंत्र और खुफिया तंत्र के पास कोई खबर नहीं थी क्या ये लोग किसी नाली दीवाल या निकास का विवाद निपटा रहे थे। यहाँ भी जनता ने अपनी जान जोखिम मे डालकर शूटरो को पकडा और मारा ।क्या यहाँ की जनता को भी भीम आर्मी का नाम देगी अम्बेडकर नगर पुलिस या जहाँगीरगंज थाने की बगावती जनता की ही तरह मुकदमा दर्ज कराकर जेल भेजेगे ?

Back to top button