महामारी के चलते पांचवी अमावस्या में नहीं दिखे श्रद्धालु मंदिरों में लटकता मिला ताला

कृष्ण मुरारी शर्मा नैमिषारण्य सीतापुर

विश्व विख्यात तीर्थ नैमिषारण्य सावन मास की सोमवती अमावस्या एवं सावन का तीसरा सोमवार के पर्व पर जहां पर लाखों श्रद्धालुओं का ताता लगता था महामारी के चलते प्रशासनिक व्यवस्था के द्वारा 5 किलोमीटर की दूरी पर वेयरिंग कटिंग लगाई गई जिससे श्रद्धालुओं गण नैमिषारण्य ना आ सके श्रद्धालु गण चौदस की रात्रि में आने का सिलसिला शुरू होता था और अमावस्या को ब्रह्म मुहूर्त में उठकर के चक्रतीर्थ में एवं आदि गंगा गोमती आस्था की डुबकी लगाते थे उसके पश्चात आदिशक्ति ललिता देवी का दर्शन कर माथा टेक कर मनोकामना मांगते थे वही महामारी के चलते एक बार फिर पांचवी अमावस्या में नहीं दिखे श्रद्धालु चक्र तीर्थ पुरोहितों गण एवं ललिता देवी मंदिर में कुल पुरोहित एवं मालाकार बंधु लोगों पर जीविका पर फिर लगा एक बार संकट मालाकार बंद लोक दुकान लगा कर के अपना जीवन यापन करते थे मालाकार लोग एवम पुरोहित गण लोग जिन का सहारा केवल एक अमावस्या है उससे जो पैदावारी होती है उससे अपने परिवार का पालन पोषण करते हैं नैमिषारण्य में मेला ना आने से शासन प्रशासन एवं जनता द्वारा चुने गए प्रतिनिधि ने नैमिष की जनता का हाल चाल नहीं लिया नैमिषारण्य की जनता त्राहि-त्राहि कर रही है प्रमुख मंदिरों में लटकता मिला ताला ललिता देवी मंदिर चक्रतीर्थ हनुमानगढ़ी व्यास गद्दी महामृत्युंजय पीठ नैमिष चौकी इंचार्ज रोहित दुबे ने प्रशासनिक व्यवस्था जबरदस्त रखी जिससे किसी प्रकार की महामारी नैमिषारण्य में ना फैले जिससे नैमिष की जनता सुरक्षित रहे

Back to top button