घागरा के बाढ़ से जलमग्न हुए गांव ,बचाव राहत में जुटा जिला प्रशासन

एडीएम, एसडीएम ,तहसीलदार ने नाव से जल मग्न गांव का लिया हाल

अंबेडकरनगर ब्यूरो बांकेलाल निषाद

जनपद अंबेडकरनगर- के घाघरा नदी का जलस्तर बढ़ने से जनपद के 3 गांव जलमग्न हो गये हैं जिसमें से टांडा तहसील अंतर्गत 1 गांव और आलापुर तहसील अंतर्गत 2 गांव हैं । आलापुर तहसील अंतर्गत माझा कम्हरिया ग्राम सभा और अराजी देवारा ग्राम सभा के हंसू का पुरवा ,प्रसाद का पुरवा, करिया लोनिया का पुरवा,बाढ़ की चपेट में आकर जलमग्न हो गये हैं जिस के बचाव कार्य में पूरा जिला प्रशासन लगा हुआ है । जनपद के अपर जिलाधिकारी डॉ पंकज वर्मा ,आलापुर तहसील के उपजिलाधिकारी धीरेंद्र श्रीवास्तव, तहसीलदार ज्ञानेंद्र यादव, राजेसुल्तानपुर थाना अध्यक्ष राम लखन पटेल ने नाव के माध्यम से जलमग्न गांव का दौरा किया। वहां एक-एक लोगों से उनकी बदहाल स्थिति के बारे में जानकारी ली तथा उनके बचाव कार्य के लिए शेल्टर होम की व्यवस्था की ।साथ ही साथ राशन किट, मिट्टी का तेल आदि जरूरी संसाधनों की बाढ़ ग्रस्त पीड़ित परिवार के लिए आवश्यक संसाधन मुहैया कराये। अपर जिलाधिकारी उस गांव का दौरा नाव के माध्यम से ही किये। अपर जिला अधिकारी ने बताया कि सभी बाढ़ पीड़ितों के लिए हमने शेल्टर होम की व्यवस्था करा दी है । अपर जिलाधिकारी ने बताया कि शेल्टर होम में लगभग 500 लोगों की व्यवस्था है । बाढ़ ग्रस्त जितने भी मजरे गांव जल मग्न हुए हैं वहां जाने के लिए नाव के अलावा और कोई मार्ग नहीं है । मुख्य सड़क और जलमग्न गांव के बीच आने जाने के लिए नाव ही मात्र माध्यम है जिसके माध्यम से लोग आ जा रहे हैं । बाढ़ ग्रस्त ग्रामीणों के लिए बाढ़ से उत्पन्न बीमारियों से निपटने के लिए अपर जिलाधिकारी ,एसडीएम और तहसीलदार थानाध्यक्ष राम लखन पटेल के माध्यम से पर्याप्त मेडिसिन की एडवांस व्यवस्था कर दी गयी है । सुबह से ही पूरे दिन भर जिला प्रशासन की टीम जल मग्न ग्रामीणों बाढ़ पीड़ितों का एक-एक लोगों का हाल नाव के माध्यम से जाना । उनकी समस्याओं से रूबरू हुए और ग्रामीणों को समझाया कि आपकी हर समस्या का समाधान किया जायेगा। अपर जिलाधिकारी डॉ पंकज वर्मा ने बताया कि बाढ़ में जिसके घर गिर गए हैं छप्पर गिर गए हैं उसके लिए जिला प्रशासन द्वारा अनुमन्य सहायता दी जाएगी । जिला प्रशासन की पूरी निगाह इन बाढ़ ग्रस्त क्षेत्र में लगी हुई है । गौरतलब है कि एडीएम डॉक्टर पंकज वर्मा एसडीएम धीरेंद्र श्रीवास्तव और तहसीलदार ज्ञानेंद्र यादव की यही टीम चहोड़ा घाट के जल मग्न हुए गोशाला से सभी गायों को कड़ी मेहनत के बाद सुरक्षित स्थान पर निकाल कर शेल्टर होम में व्यवस्था किये थे और आज यही पूरी टीम बाढ़ग्रस्त गांव का नाव के माध्यम से दौरा कर रही है और उनके बचाव राहत में लगी हुई है ।

Back to top button