बदहाली का शिकार हुआ राम नगरी अयोध्या का विभीषण कुंड पार्क , कब बहुरेगे इसके दिन

अयोध्या : मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम की पावन धर्म नगरी अयोध्या में डाकघर चौराहे सेअशर्फी भवन चौराहे के मध्य तोताद्रिमठ के निकट रामकोटवार्डमेंस्थितपौराणिक महत्त्व वाले विभीषणकुंड की नारकीय स्थिति की ओर नगर निगम के महापौर ऋषिकेश उपाध्याय, क्षेत्रीय पार्षद,सांसद,विधायक किसी भी का ध्यान नहीं जा रहा है। यह कुंड पूरीतरहसेअव्यवस्था का शिकार बन चुका है, ज्ञातव्य हो कि नगर पालिका परिषद अयोध्या केतत्कालीन चेयरमैन राधेश्याम गुप्ता के निर्देश पर तत्कालीन अधिशासी अधिकारी सुश्री पूजा त्रिपाठी ने योजना बनाकर इस कुंड का सौन्दर्यीकरण लाखों रुपए खर्च करके करवाया था। इसमें रेलिंग की रंगाई पुताई, बच्चों के लिए झूले व लोगों के बैठने के लिए बेन्चें लगवाने तथा हरियाली हेतु लिए सैकड़ों पौधे लगाए गए थे। इतना ही नहीं कुंड के मध्य पानी में एक फौव्वारा लगाया गया जिसमें रंगीन जलधारा निकल रही थी और सुरीली आवाज में भजन सुबह – शाम बजते रहते थे। इस कुंड की देखरेख के लिए कर्मचारी भी तैनात किए गए थे, जो इसके रखरखाव की जिम्मेदारी निभाते थे , नगर निगम अयोध्या की घोषणा होने के कुछ महीने बाद ही इस कुंड की बिजली गायब हो गई जो कई महीने तक ठीक नहीं कराई जा सकी। इसकी शिकायत किए जाने पर स्ट्रीट लाइट से विद्युत कनेक्शन नगर निगम ने जोड़ दिया है जिससे थोड़े प्रकाश की व्यवस्था हो सकी है जोअपर्याप्त है। दक्षिण तरफ गिरी हुई दीवाल अभी तक ठीक नहीं कराई जा सकी है। पेड़- पौधे सूखते जा रहे हैं। कुंड में गंदा पानी भरा हुआ है। लाइट एंड साउंड सिस्टम पूरी तरह से खत्म हो चुका है। यहां पर बच्चों के लिए लगे झूले की जंजीरें और पटरे नदारद हैं केवल एंगिल लगा हुआ है। अव्यवस्था के कारणयहकुंडअपनीसुंदरता
खोता जा रहा है । जहां एक तरफ पर्यटन विभाग द्वारा करोड़ों रुपए खर्च करके अभी कुछ दिन पहले तुलसी उद्यान का सुंदरीकरण कराया जा चुका है, उसी तुलसी उद्यान के सौंदर्यीकरण नगर निगमअयोध्यापुनः₹32करोड़ खर्च करने की घोषणा कर रहा है वही इस विभीषण कुंड को व्यवस्थित करने के लिए दो चार लाख रुपए भी नहीं खर्च किए जा रहे हैं। अयोध्या के संभ्रांत नागरिकों ने नगर निगम महापौर व आयुक्त से मांग की है कि इस महत्वपूर्ण कुण्ड का सौन्दर्यीकरण कराया जाए !

ब्यूरो रिपोर्ट -अमित कुमार मांझी

Back to top button