Trending

बहुचर्चित छात्रवृत्ति घोटाले में समाज कल्याण विभाग व बैंको की भूमिका की होगी जांच

उत्तराखंड जसपुर – प्रदेश के बहुचर्चित दशमोत्तर छात्रवृत्ति घोटाले की जांच की आंच अब समाज कल्याण विभाग व विभिन्न बैंकों तक पहंुच गयी। इस घोटाले की जांच कर रही एसआईटी ने अब इस पूरे प्रकरण में समाज कल्याण विभाग व विभिन्न बैंकों की भूमिका के सम्बन्ध में जांच शुरू कर दी है। उधर छात्रवृत्ति घोटाले से संबंधित 6 और आरोपी पुलिस की गिरफ्त में आ गये। इनमंे से पांच आरोपी जसपुर कोतवाली क्षेत्र के तथा एक आरोपी कुंडा थाना क्षेत्र का है। शुक्रवार को अपर पुलिस अधीक्षक कार्यालय काशीपुर में जिले के एसआईटी सह प्रभारी देवेन्द्र पींचा ने बताया कि इस घोटाले के अंतर्गत जांच के आधार पर पूरे जनपद में 29 अभियोग पंजीकृत कराये गये हैं। जिनमें 15 अभियोग थाना जसपुर में दर्ज कराये गये हैं। इसी की जांच में हरियाणा व उत्तर प्रदेश सहित विभिन्न शिक्षण संस्थानों में अध्ययनरत दर्शाये गये करीब 150 लोगों से पूछताछ कर बयान रिकाॅर्ड किये गये तथा समाज कल्याण विभाग रूद्रपुर से मामलों से संबंधित छात्रवृत्ति आवेदन फार्म आदि दस्तावेज कब्जे मंे लेकर सील किये गये। उन्होंने बताया कि इन अभियोगों में अब तक जसपुर थाना अंतर्गत 6 लोगों को विभिन्न जगहों से गिरफ्तार किया जा चुका है। उन्होंने बताया कि जांच के दायरे में 15 शिक्षण संस्थान एसआईटी द्वारा चिन्हित किये गये जिनमें अध्ययनरत दर्शाये गये छात्रों की छात्रवृत्ति वितरण से संबंधित मुकदमे थाना जसपुर में दर्ज कराये गये हैं। उन्होंने बताया कि जिनकी जांच के दौरान एसआईटी टीम ने थाना जसपुर के मोहल्ला नत्था सिंह निवासी सतेन्द्र कुमार एडवोकेट पुत्र उमादत्त, नगर पंचायत महुआडाबरा निवासी महिलाल पुत्र बाल किशन, निवारमुण्डी निवासी प्रमोद सैनी पुत्र सुखलाल सिंह, ग्राम मेघावाला निवासी चट्टान सिंह पुत्र चैखे सिंह, मोहल्ला पट्टी चैहान निवासी चन्द्र प्रकाश पुत्र सौनाथ सिंह, ग्राम अंगदपुर निवासी तेजपाल पुत्र ओम प्रकाश को विभिन्न स्थानों से गिरफ्तार किया गया है। एसआईटी सह प्रभारी पिंचा ने बताया कि पूछताछ के दौरान उक्त लोगों ने टीम को बताया कि विभिन्न क्षेत्रों से छात्रों के शैक्षिक व अन्य दस्तावेज पिछली क्लास की स्काॅलरशिप दिलाने, बीएड व अन्य कोर्स करवाने, सरकारी योजना, गरीबी योजना आदि विभिन्न प्रलोभनों से दस्तावेजों को एकत्र कर उनके आधार पर विभिन्न शिक्षण संस्थानों में छात्रों के फर्जी प्रवेश दर्शाकर समाज कल्याण विभाग से स्काॅलरशिप आहरित करवायी गई। पूछताछ में पकड़े गये लोगों ने बताया कि कई मामलों में सामान्य वर्ग के छात्रों को भी ओबीसी वर्ग में दर्शाकर स्काॅलरशिप ली गयी तथा कुछ मामलों मंे कक्षा 6 व 12वीं तक के छात्रों को भी बीएड में प्रवेश दिखाया गया। उन्होंने बताया कि पूछताछ में कई अन्य एजेंटों के नाम भी प्रकाश में आये हैं जिन्हें चिन्हित किया जा रहा है। एसआईटी सह प्रभारी पिंचा ने बताया कि इस घोटाले से संबंधित समाज कल्याण विभाग व विभिन्न बैंकों की भूमिका के संबंध में भी जांच की जा रही है। उन्होंने बताया कि इस घोटाले से संबंधित एक आरोपी थाना जसपुर ग्राम भगवंतपुर निवासी कमलजीत पुत्र नरेन्द्र सिंह फरार है। जिसकी कुर्की वारंट की कार्यवाही की जा रही है। इस मौके पर एएसपी काशीपुर राजेश भट्ट, सीओ मनोज कुमार ठाकुर, प्रभारी निरीक्षक चन्द्र मोहन सिंह भी मौजूद रहे। जबकि आरोपितों को गिरफ्तार करने वाली टीम में जसपुर प्रभारी निरीक्षक उमेद सिंह दानू, एसएसआई ललित मोहन जोशी, बाजार चैकी प्रभारी गोविंद सिंह अधिकारी, एसआई मनोज जोशी, अर्जुन सिंह, कां. सुरेन्द्र बोरा, मदन बोरा, प्रदीप बाराकोटी शामिल रहे।

ब्यूरो रिपोर्ट- देवेंद्र सिंह राय

Back to top button