स्टूडेंट पुलिस कैडेट कार्यक्रम के अंतर्गत एसडीएम जलालपुर ने सैकड़ों बच्चों से बौद्धिक विकास पर की चर्चा”

बांकेलाल निषाद

जनपद अंबेडकर- नगर के तहसील जलालपुर के नवागत उप जिलाधिकारी महेंद्र पाल सिंह स्टूडेंट पुलिस कैडेट कार्यक्रम के अंतर्गत सैकड़ों छात्रों को उनके बौद्धिक विकास के संबंध में विस्तृत चर्चा किये। उन्होंने छात्रों को आकाशगंगा ,ब्रह्मांड, देश-दुनिया के संबंध में विश्व स्तरीय जानकारी छात्रों को दिए। वे छात्रो को जनपद स्तरीय प्रशासनिक दायित्वों के विषय में भी बताए। उन्होंने बताया कि तहसील में उप जिलाधिकारी के बाद तहसीलदार, नायब तहसीलदार, राजस्व निरीक्षक, लेखपाल जैसे पद और उनके कार्य एवं दायित्व के विषय में भी जानकारी दिये। उन्होंने बच्चों को बताया कि जनसंख्या के आधार पर नगर पालिका ,नगर पंचायत, नगर निगम का भी नगरों के चतुर्दिक विकास साफ सफाई के लिए संविधान के अंदर गठन किया गया है ,। उन्होंने पुलिस अधीक्षक, अपर पुलिस अधीक्षक, क्षेत्राधिकारी, थाना अध्यक्ष इत्यादि के प्रशासनिक दायित्व एवं जिम्मेदारी के विषय मे जानकारी दिए। नवागत उप जिलाधिकारी ने बच्चों से प्रश्नोत्तरी भी करके उनके बौद्धिक क्षमता के बारे में पता किए और उनके अध्यापकों को बच्चों के जिज्ञासाओं को शांत करने के लिए उनसे प्रश्न उत्तर करके उनके प्रश्नों का जवाब देकर करना चाहिए ।गौरतलब है कि स्टूडेंट पुलिस कैडेट कार्यक्रम के अंतर्गत छात्राओं के जिज्ञासाओं को एवं उनके बौद्धिक विकास एवं क्षमता के बारे में विशेष जानकारी दी और प्रशासनिक दायित्व निर्वहन कैसे किया जाता है इन सब के बारे में बच्चों को विस्तृत जानकारी दी। इसके पहले बच्चे जिला कारागार, जिलाधिकारी राकेश कुमार मिश्र के माध्यम से एवं पुलिस अधीक्षक आलोक प्रियदर्शी के माध्यम से एवं अपर पुलिस अधीक्षक अवनीश कुमार मिश्र के माध्यम से तथा विभिन्न क्षेत्राधिकारी एवं थानाध्यक्ष उपजिलाधिकारी आदि के माध्यम से पूरे जनपद में जा- जाकर छात्रों ने उनके दायित्वों के बारे में अपनी जिज्ञासा शांत की और उनसे प्रेरणा प्राप्त किए।

Back to top button