खतौनी सुदा जमीन पर हो रहा अबैध निर्माण आनाकानी कर रही टाण्डा पुलिस

अजय तिवारी

अंबेडकरनगर -टाण्डा कोतवाली क्षेत्र अंतर्गत पिपरी बिशुनपुर का जहां जिया लाल वर्मा पुत्र स्वर्गीय रामशरण वर्मा के आबादी एवं सहन से सटे निजी गाटा संख्या 410 रकवा १०धुर खतौनी सुदा जमीन को शोभावती वर्मा पत्नी स्वर्गीय रतीराम वर्मा निवासी उक्त ग्राम सभा एवं उनके लड़के नवीन अपनी सरकसी के बल पर लगभग 20 अराजक तत्वों को बुलाकर जबरदस्ती निर्माण करवाना शुरू कर दिया पीड़ित जियालाल वर्मा 112 नंबर को सूचित किया 112 नंबर आई थाने को सूचित करने के बाद थाने से दो सिपाही आए वह दोनों पक्षों को थाने बुलाकर गए लेकिन विपक्षी अपनी सरकसी के बलबूते पुलिस आने पर काम बंद कर देते पुलिस हटने के तत्काल बाद काम जारी कर देते थे ऐसा दिन भर चलता रहा पीड़ित थाने पर अपनी फरियाद को लेकर जब पहुंचा तब ढोल का पोल समझ मे आया एसडीएम के निर्देश के बाद भी कोतवाल संजय पांडेय ने पीड़ित का एप्लीकेशन तक नहीं लिया बलिक न्याय मांगने गए जिया लाल वर्मा के बड़े लड़के योगेंद्र प्रसाद वर्मा को थाने में बिठा लिया घटनास्थल पर विपक्षियों का निर्माण का कार्य जारी रहा बाद में रात्रि को छोड़ दिया जाता है जिससे पूर्णतया स्पष्ट हो जाता है कि कोतवाल के दिशा निर्देश में ही यह निर्माण हुआ है एडिशनल एसपी अम्बेडकरनगर को भी इस मामले को अवगत कराया गया उन्होंने कहा राजस्व का मैटर लेकर यदि पुलिस के पास जाएंगे तो पुलिस तो केस करवय करेगी एसपी आलोक प्रियदर्शी से भी इसके मामले में पत्रकारों द्वारा दो बार अवगत कराया गया लेकिन मामला जस का तस रहा सबसे बड़ा सवाल यह है जनता की हितैषी कही जाने वाली पुलिस यदि जनता को न्याय दिलाने के बजाय केस बांटने पर तुल जाएगी तो आम जनमानस थाने का दरवाजा प्रवेश करने के पहले खुद ही खुद में घुट कर मर जाएगा यदि थानों एवं प्रशासनिक रवैया में इतनी कमी है तो इसका जिम्मेदार कौन है पीड़ित को न्याय कैसे मिलेगा जबकि यह मामला सिविल जज जूनियर डिवीजन टाण्डा के यहां भी विचाराधीन है पीड़ित के द्वारा धारा 41(हदबरारीबरारी )के तहत 1992 में राजस्व द्वारा लगाई गई रिपोर्ट की कॉपी से स्पष्ट दिखाई पड़ता है कि पूरी जमीन जबरन विपक्षी शोभावती एवं नवीन के द्वारा कब्जा किया गया है जो जियालाल वर्मा को मिलना चाहिए प्रार्थी ने न्याय की गुहार डीएम अम्बेडकरनगर से लगाई है देखने वाली बात यह है कि उनको न्याय कैसे मिल पाता है आनंद कुमार वर्मा की रिपोर्ट

Back to top button