*पंडित जवाहर लाल नेहरू इण्टर कॉलेज हेलेपारा सीतापुर

रिपोर्टर रमेश दीक्षित

सीतापुर -होली के पावन पर्व पर स्कूल के प्रबंधक मोहम्मद अहमद जी के द्वारा स्कूल के सभी शिक्षक शिक्षिकाओं तथा स्कूल के सभी कर्मचारियों को दिया गया होली का उपहार और उन्हें किया गया सम्मानित। स्कूल के प्रधानाचार्य धन्नजय जी ने बच्चों को बताया की क्यो मनाया जाता है होली का त्योहार और बताया कि होली का पर्व एक रंगों के त्यौहार’ के तौर पर मशहूर होली का त्योहार है फाल्गुन महीने में पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है। भारत के अन्य त्यौहारों की तरह होली भी बुराई पर अच्छाई की जीत का एक प्रतीक है। प्राचीन पौराणिक कथा के अनुसार होली का त्योहार, हिरण्यकश्यप की कहानी से जुड़ा है।हिरण्यकश्यप प्राचीन भारत का एक राजा था जो कि राक्षस की तरह था। वह अपने छोटे भाई की मौत का बदला लेना चाहता था जिसे भगवान विष्णु ने मारा था। इसलिए अपने आप को शक्तिशाली बनाने के लिए उसने सालों तक प्रार्थना की। आखिरकार उसे वरदान मिला। लेकिन इससे हिरण्यकश्यप खुद को भगवान समझने लगा और लोगों से खुद की भगवान की तरह पूजा करने को कहने लगा। इस दुष्ट राजा का एक बेटा था जिसका नाम प्रहलाद था और वह भगवान विष्णु का परम भक्त था। प्रहलाद ने अपने पिता का कहना कभी नहीं माना और वह भगवान विष्णु की पूजा करता था। बेटे द्वारा अपनी पूजा ना करने से नाराज उस राजा ने अपने बेटे को मारने का निर्णय किया। उसने अपनी बहन होलिका से कहा कि वो प्रहलाद को गोद में लेकर आग में बैठ जाए क्योंकि होलिका आग में जल नहीं सकती थी। उनकी योजना प्रहलाद को जलाने की थी, लेकिन उनकी योजना सफल नहीं हो सकी क्योंकि प्रहलाद सारा समय भगवान विष्णु का नाम लेता रहा और बच गया पर होलिका जलकर राख हो गई। होलिका की ये हार बुराई के नष्ट होने का प्रतीक है। इसके बाद भगवान विष्णु ने हिरण्यकश्यप का वध कर दिया, इसलिए होली का त्योहार, होलिका की मौत की कहानी से जुड़ा हुआ है। इसके चलते भारत के कुछ राज्यों में होली से एक दिन पहले बुराई के अंत के प्रतीक के तौर पर होली जलाई जाती है और सभी लोग खुशी के साथ एक दूसरे के गले मिलते हैं और लोग एक दूसरे को होली की हार्दिक शुभकामनाएं देते हैं

Back to top button