जलालपुर तहसीलदार बेलगाम पीड़ित ने लगाई डीएम से गुहार

बांकेलाल निषाद

तहसीलदार का जुबान ,कहता है जहां से फोन कराते हो उन्हीं से कह दो हटा दें अतिक्रमण

एक वर्ष से पीड़ित द्वारा तहसील का चक्कर लगाते घिस गया है चप्पल लेकिन नहीं हटा अतिक्रमण

जनपद अंबेडकर नगर –के तहसील जलालपुर के तहसीलदार बृजेश कुमार वर्मा बेलगाम हो चुका है। पीड़ित से कहता है जहां से फोन कराते हो उन्हीं से कह दो अतिक्रमण हटवा दें। पूरा प्रकरण यह है कि ग्रामसभा चौबेकापुरवा में प्रेम सागर पुत्र दुखन्ती ने धारा 34 के तहत अपनी जमीन की पैमाइश राजस्व टीम के साथ में पुलिस बल के साथ करवाई थी जिसकी निशानदेही 30/1/2019 को कर दी गई थी। तत्पश्चात जैसे ही पैमामाइश करके राजस्व टीम तहसील पहुंची उसके 2 दिन बाद ही विपक्षीगण बंसराज, मधुबन, दुलार पुत्रगण बलिकरन व हरिदास पुत्र बंसराज राजस्व टीम द्वारा हुए पत्थलनसब को दबंगई से उखाड़ दिए। उपरोक्त दबंगों के खिलाफ एफआइआर दर्ज हुआ लेकिन इन दबंगों की दबंगई इतनी बढ़ गई कि ये लोग दीवाल बनाकर पीड़ित के पत्थलनसब हुई जमीन को दीवाल बनाकर कब्जा करने लगे। तब से लेकर आज तक पीड़ित द्वारा अवैध दीवाल को गिराने के लिए तहसील जलालपुर का चक्कर लगाते लगाते चप्पल घिस गया है। तहसीलदार जब उसकी नहीं सुने तो पीड़ित ने डीएम से दो बार गुहार लगायी। डीएम के आदेश के बावजूद भी तहसीलदार कहता है जहां से फोन व आदेश कराते हो उन्हीं लोगों से कह दो जाकर दीवाल गिरवा दें ।तहसीलदार जलालपुर बेलगाम हो चुका है ऐसे अधिकारियों को तहसील में रखने से कानून का मजाक बनाने जैसा है ।ऐसे ही बेलगाम तहसीलदार जैसे अधिकारियों की वजह से पीड़ितों को न्याय मिलने में देरी होती है और न्याय से भरोसा उठ जाता है, पीड़ित गैरकानूनी हथकंडा अपनाने के लिए मजबूर हो जाता है। प्रदेश के मुखिया ऐसे ही अधिकारियों के हवाले तहसील करेंगे तो उनकी मंशा के अनुरूप कार्य कैसे होगा ?बाबा द्वारा यह बार-बार अधिकारियों को निर्देशित किया जाता है कि शासन की मंशा के अनुरूप प्रदेश के सभी अधिकारी-कर्मचारी कार्य करें ।लेकिन तहसील जलालपुर में ठीक इसके विपरीत कार्य हो रहा है। तहसीलदार को शायद यह नहीं पता कि ऐसे ही लापरवाह अधिकारियों को प्रदेश के मुखिया दर्जनों लोगों को बर्खास्त कर चुके हैं ।उनका ऐलान है यदि अधिकारी सरकार की मंशा के अनुरूप और कानून के अनुरूप कार्य नहीं करेंगे तो उनकी बर्खास्तगी तय है। वे जाकर आराम से अपने घर पर विश्राम करें।

Back to top button