प्रेम प्रसंग में हुई हत्या का शूटर गिरफ्तार ढाई लाख में दी गई थी सुपारी

बांकेलाल निषाद

सूटर का पिता भी है अपराधी नैनी जेल में है बंद

सूटर की जुबान कहा एक ही गोली में कर देता था हत्या

जनपद अंबेडकरनगर -के जैतपुर के नवागत थानाध्यक्ष जैसे ही चार्ज लेने के लिए थाने में प्रवेश किए ठीक उसी समय उनको फोन पर सूचना मिली कि नेवादा रास्ते में जितेंद्र गुप्ता नामक व्यक्ति की हत्या हो गयी। थानाध्यक्ष द्वारा तत्काल उसकी पत्नी को हत्यायोजित मामले में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। इस हत्या के संबंध में 1 मार्च 2020 को थाना जैतपुर वादी मयंक गुप्ता निवासी मुस्तफाबाद थाना जैतपुर द्वारा अपने पिता मृतक जितेंद्र नाथ गुप्ता की हत्या के संबंध में नामजदगी मुकदमा अपराध संख्या 38 / 20 धारा 302 ,120 बी भादवि बनाम अरुण कुमार गुप्ता पुत्र राजेंद्र प्रसाद गुप्ता निवासी इकडल्ला थाना सरपतहा जनपद जौनपुर व ममता गुप्ता पत्नी जितेंद्र नाथ गुप्ता पंजीकृत कराया गया था। जिसमें ममता गुप्ता को पूर्व में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था ।प्रकरण को गंभीरता से लेते हुए जैतपुर और जलालपुर दोनों की संयुक्त टीमों द्वारा प्रकरण को गंभीरता से लेते हुए मुख्य अपराधी अरुण कुमार गुप्ता की तत्काल गिरफ्तारी हेतु पुलिस अधीक्षक आलोक प्रियदर्शी द्वारा ₹10000 का इनाम घोषित किया गया था। अभियुक्त की गिरफ्तारी हेतु 16 मार्च 2020 को जैतपुर व जलालपुर दोनों की संयुक्त पुलिस टीम द्वारा बरम बाबा स्थान के पास लगभग 9:00 बजे रात को घेराबंदी की गयी। मुठभेड़ में मुख्य शूटर विजय सिंह उर्फ चट्टान पुत्र अच्छे लाल तिवारी निवासी रामनगर थाना सरपतहा जनपद जौनपुर, को क्रास फायरिंग में सूटर के पैर में गोली लगी व कांबिंग के दौरान थोड़ी देर में दूसरे अभियुक्त अरुण कुमार गुप्ता को भी गिरफ्तार कर लिया गया। अभियुक्त विजय शंकर तिवारी के कब्जे से घटना में प्रयुक्त एक अदद पिस्टल 32 बोर व दो अदद खोखा कारतूस एवं एक अदद मोटरसाइकिल यु पी 62 बीई 4574 बरामद की गयी। अभियुक्त विजय शंकर तिवारी का लंबा अपराधिक इतिहास है। उसके ऊपर कुल अब तक 7 मुकदमे दर्ज हो चुके हैं। सूटर के पिता का भी काफी लंबा अपराधिक इतिहास है। वह इस समय नैनी जेल में बंद है ।शूटर ने कबूला कि मैंने आज तक किसी भी हत्या में एक गोली से ज्यादा किसी को नहीं मारा और सभी की मौत मात्र एक ही गोली में हो गयी। और मृतक जितेंद्र गुप्ता को भी शूटर विजय शंकर तिवारी ने मात्र एक ही गोली मारा था जो गर्दन से पार हो गयी थी और तत्काल जितेंद्र गुप्ता की मृत्यु हो गई थी। गिरफ्तार कर्ता टीम में थानाध्यक्ष जैतपुर पीएन तिवारी ,यसआई कृपा शंकर यादव , कांस्टेबल कमलेश कुमार, विनय यादव ,हरिश्चंद्र चौधरी एवं कमलेश कुमार व जलालपुर के थानाध्यक्ष प्रद्युम्न कुमार सिंह कांस्टेबल लक्ष्मी यादव ,अरुण पाल ,सतीश यादव शामिल रहे।प्रेम प्रसंग में हुई इस हत्या में अरुण कुमार गुप्ता ने ढाई लाख का सुपारी शूटर को दिया था, जिसने उसकी प्रेमिका के पति की जितेंद्र गुप्ता की तत्काल मौत हो गई थी।

Back to top button